PopNews.in पर पाइये सेहत से जुडी दुनिया भर की नई रिसर्च और ताज़ा खबरें!

PopNews.in पर पाइये सेहत से जुडी दुनिया भर की नई रिसर्च और ताज़ा खबरें!

इस वेबसाइट में आपको हैल्थ सम्बन्धी हर तरह की जानकारियां और लेटेस्ट हैल्थ न्यूज़ मिलेगीं!

इस वेबसाइट में आपको हैल्थ सम्बन्धी हर तरह की जानकारियां और लेटेस्ट हैल्थ न्यूज़ मिलेगीं!
यहाँ सारी जानकारियाँ Doctors, Books, Wikipedia, और Megzense आदी जैसे विश्वसनीय और भरोसेमंद माध्यम से दी जाती है!

जानिये दुनिया के जाने माने डॉक्टर्स की बताई हुई हैल्थ टिप्स, सलाह, और नॉलेज हिंदी में!

जानिये दुनिया के जाने माने डॉक्टर्स की बताई हुई हैल्थ टिप्स, सलाह, और  नॉलेज हिंदी में!

Student Help: All Medical Notes & Information in Hindi

Student Help: All Medical Notes & Information in Hindi

नई जानकारियां

ज़्यादा मीठे से कैंसर का खतरा, नयी रिसर्च! high consumption of sugar leads to higher cancer risk

Arshan Amrohvi

शुगर ड्रिंक्स से कैंसर का खतरा: 

हाल ही में हुए एक अध्यन से पता चला है की ज़्यादा मीठा खाने से कैंसर का रिस्क बढ़ जाता है!

ज़्यादा मीठे से कैंसर का खतरा, नयी रिसर्च!

ज़्यादा मीठे से कैंसर का खतरा


ब्रिटिश मेडिकल जर्नल (BMJ )
में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, शर्करा वाले पेय का अधिक सेवन कैंसर के बढ़ते खतरे से जुड़ा हो सकता है। मीठे से होने वाला खतरा डायरेक्ट तो नहीं  लेकिन जिस तरह मीठा पीने से मोटापा बढ़ता है, कैंसर का खतरा होता है:
फ्रांस में 13 विश्वविद्यालय के लोगों सहित शोधकर्ताओं ने कहा,  पिछले कुछ दशकों के दौरान दुनिया भर में शर्करा युक्त पेय की खपत में वृद्धि हुई है और यह मोटापे के जोखिम से काफी हद तक जुड़ा हुआ है, जो बदले में कई कैंसर के लिए एक मजबूत जोखिम कारक के रूप में पहचाना जाता है।

हालांकि, शर्करा युक्त पेय और कैंसर के जोखिम पर शोध अभी भी सीमित है।
ये 10 आसान हेल्थ केयर टिप्स रखेंगी आपको हर बीमारी से दूर!
कैंसर के साथ शर्करा पेय का संघ:
शोधकर्ताओं ने शर्करा वाले पेय (चीनी-मीठे पेय और 100 प्रतिशत फलों के रस), कृत्रिम रूप से मीठा (आहार) पेय, और समग्र कैंसर के जोखिम के साथ-साथ स्तन, प्रोस्टेट, और आंत्र (कोलोरेक्टल) की खपत के बीच संघों का आकलन करने के लिए निर्धारित किया है।

प्रतिभागियों के बारे में:
निष्कर्ष 101,257 स्वस्थ फ्रांसीसी वयस्कों (21 प्रतिशत पुरुषों; 79 प्रतिशत महिलाओं) पर आधारित हैं जिनकी औसत आयु 42 वर्ष है।

प्रतिभागियों ने कम से कम 24-घंटे ऑनलाइन मान्य आहार प्रश्नावली को पूरा किया, जिसे 3,300 विभिन्न खाद्य और पेय पदार्थों के सामान्य सेवन को मापने के लिए डिज़ाइन किया गया और अधिकतम नौ वर्षों तक इसका पालन किया गया।

शर्करा युक्त पेय और कृत्रिम रूप से मीठा (आहार) पेय पदार्थों की दैनिक खपत की गणना की गई और प्रतिभागियों द्वारा रिपोर्ट किए गए कैंसर के पहले मामलों को मेडिकल रिकॉर्ड द्वारा मान्य किया गया और स्वास्थ्य बीमा राष्ट्रीय डेटाबेस के साथ जोड़ा गया।

शोध में क्या पाया गया?

महिलाओं की तुलना में पुरुषों में शर्करा पेय की औसत दैनिक खपत अधिक थी
फॉलो-अप के दौरान, कैंसर के 2,193 पहले मामलों का निदान किया गया और उन्हें वैध किया गया (693 स्तन कैंसर, 291 प्रोस्टेट कैंसर और 166 कोलोरेक्टल कैंसर)। कैंसर के निदान की औसत आयु 59 वर्ष थी
परिणाम बताते हैं कि शर्करा पेय की खपत में प्रति दिन 100 मिलीलीटर की वृद्धि समग्र कैंसर के 18 प्रतिशत बढ़े हुए जोखिम और स्तन कैंसर के 22 प्रतिशत बढ़े जोखिम के साथ जुड़ी थी।
जब शर्करा पेय का समूह फलों के रस और अन्य शर्करा पेय में विभाजित किया गया था, तो दोनों पेय प्रकारों की खपत समग्र कैंसर के उच्च जोखिम से जुड़ी थी
शोधकर्ताओं ने कहा कि प्रोस्टेट और कोलोरेक्टल कैंसर के लिए कोई संबंध नहीं पाया गया, लेकिन इन कैंसर स्थानों के लिए मामलों की संख्या अधिक सीमित थी
कृत्रिम रूप से मीठा (आहार) पेय पदार्थों का सेवन कैंसर के जोखिम से जुड़ा नहीं था, लेकिन शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि इस नमूने में अपेक्षाकृत कम खपत स्तर के कारण इस खोज की व्याख्या करने में सावधानी बरतने की जरूरत है।
इन परिणामों के लिए संभावित स्पष्टीकरण में आंत के वसा पर शर्करा पेय में निहित शर्करा का प्रभाव शामिल है (जिगर और अग्न्याशय जैसे महत्वपूर्ण अंगों के आसपास संग्रहीत), रक्त शर्करा का स्तर, और भड़काऊ मार्कर, जो सभी कैंसर के जोखिम में वृद्धि से जुड़े हैं
अन्य रासायनिक यौगिकों, जैसे कुछ सोडों में योजक भी एक भूमिका निभा सकते हैं, उन्होंने कहा।
यह एक पर्यवेक्षणीय अध्ययन है, इसलिए इसका कारण स्थापित नहीं किया जा सकता है, और शोधकर्ताओं ने कहा कि वे पेय पदार्थों के कुछ गलत विवरणों या हर नए कैंसर के मामले की गारंटी का पता नहीं लगा सकते हैं
अध्ययन का नमूना बड़ा था और वे संभावित प्रभावशाली कारकों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए समायोजित करने में सक्षम थे
परिणाम भी परीक्षण के बाद काफी हद तक अपरिवर्तित थे, यह सुझाव देते हुए कि निष्कर्षों का परीक्षण किया गया है।

ये 10 आसान हेल्थ केयर टिप्स रखेंगी आपको हर बीमारी से दूर | healthy lifestyle in hindi

Arshan Amrohvi
Healthy lifestyle tips in hindi
Healthy Lifestyle Tips in Hindi

हैेल्थ के लिए अंग्रेजी में एक मशहूर कहावत "Health is Wealth" हम सब बचपन से सुनते आरहे हैं, लेकिन आपने अगर इसके सही माईने पर गौर किया हो तो इसका मतलब यही है की भले ही किसी के पास कितनी ही मालोदोलत या पैसा क्यों न हो फिर भी क्या फायदा अगर सेहत अच्छी न हो, 
फ़र्ज़ कीजिये आप किसी अच्छे रेस्टुरेंट या प्रोग्राम में गये हुये हैं और वहां अपनी मनपसंद चीज़ ना खा पाने पर मजबूर हों तो कितना बुरा लगेगा हेना?
हमारे देश में ज़्यादातर हर घर में कोई न कोई मोटापे(Obesity), हाई ब्लड प्रेशर (BP), डायबेटीस(Dibities), किडनी, गुर्दे की बीमारियों और न जाने कोन कोन सी बीमारियों से परेशान हैं,
यक़ीन जानिये दोस्तों अस्पतालों में हर रोज़ लग रही इस भीड़ को डॉक्टर और सरकार से ज़्यादा अच्छी न हो,आप लोग खुद ही काम कर सकते हैं, और इसका सिर्फ एक ही तरीका है और वो है हेल्थी लाइफस्टाइल  अपनाना और दूसरों तक भी जानकारी पोहचाना!
इन 10 आसान हैल्थ केयर टिप्स को फॉलो कर और हेल्थी लाइफस्टाइल को अपनाकर सिर्फ आपका ही भला नहीं होगा बल्कि इसका अच्छा असर आपकी फॅमिली और सोसाइटी पर भी पड़ेगा!



Top 10 Health care tips in hindi | बेहद आसान, हेल्थ केयर टिप्स एंड लाइफस्टाइल  


healthy fruits and vegetables
हैल्थी फ्रूट्स एंड वेजिटेबिल्स 

1. हैल्थी खाएं हमारी सेहत सबसे ज़्यादा खाने पर ही निर्भर है, बिलकुल आपके घर की दीवारों के रंग की तरह की दीवारों का रंग दीवार पर लगाए गए रंग जैसा ही होगा ☺️
अब सवाल आता है की हेल्थी खाना कोनसा है और कोनसा नहीं?
तो दोस्तों हेल्थी खाना तो हरी सब्ज़ियां, दालें, फल, दूध वगैरह ही है लेकिन आमतौर पर हम इस हेल्थी खाने में ज़्यादा नमक, मसाले और तेल जैसे घी, रिफाइन्ड और सरसो का तेल भर कर इसे अनहैल्थी बना देते हैं देते हैं जबकि हमें नमक मसाले कम और तेलों में सैचुरेटेड ऑइल जैसे जैतून का तेल(olive oil) का इस्तेमाल करना चाहिए और खाने में लगभग डेली 30g प्रोटीन और फाइबर यूज़ करना चाहिए!




eat on time
टाइम से खाएं 

2 .टाइम से खाएं:  वैसे तो कहा ये जाता है की जब भूक लगे तब ही खाना चाहिए, और सही भी है क्योंकि हमारा पेट कोई फ़िज़ूल सा डब्बा नहीं है जिसमे जो मर्ज़ी चाहो जब चाहो कुछ भी भरते जाओ 😃
लेकिन अगर हम भगवान की बनायीं इस दुनिया पर गौर करें तो पाएंगे की हर चीज़ टाइम के हिसाब से चलती है, पृथ्वी हो, चाँद सूरज हो या कुछ भी हो हर चीज़ वक़्त की पाबंद है, और जैसा  सब जानते ही हैं की हमारा शरीर भी इस प्रकृति का ही हिस्सा है और इसमें भी यही खूबी है की जब हम किसी काम को वक़्त के साथ करते हैं तो ना सिर्फ हमारे शरीर को आदत हो जाती है बल्कि उसका फायदा भी सबसे ज़्यादा मिलता है!
दुनिया भर मे बोहत सारी रिसर्चस मे भी इसके अनेको फायदे देखने को मिलते हैं और ज़्यादातर डॉक्टर्स को आप देखें तो वो भी खाना टाइम से ही खाते हैं!




योगा
व्यायाम 
3 .एक्सरसाइज़ :  डेली एक्सरसाइज़ और हैल्थी खाना ही अस्ल में हैल्थी  लाइफस्टाइल कहलाता है जो की मोटापा, दिल की बीमारियां, हाईपरटेंशन, डाईबेटीस और कैंसर जैसी अनेको बीमारियों के रिस्क को कम कर देता है! अनेको बीमारियों के रिस्क कम कर देने साथ साथ ये हमारी फिज़िकल और मेन्टल हैैेल्थ को भी बोहत अच्छा रखता है, इससे हमारा वज़न सही रहता है मसल्स और बोन्स स्ट्रांग रहती हैं, नींद भी अच्छी आती है जिससे दिमाग भी सही रहता है, लिहाज़ा अच्छी सेहत के लिए रोज़ एक्सरसाइज़ बोहत बोहत ज़रूरी है!





healthy sleeping
नींद पूरी लें

4.नींद पूरी लें :  हर 24 घंटों मेँ लगभग 8 घण्टे की नींद होनी ही चाहिए और अगर आप स्टूडेंट हैं तो दोपहर की आधे घण्टे की नींद आपकी पढ़ने की क्षमता को और बढ़ा देगी!
 जिस तरह बैठ कर टांगो और पैरों को, लेट कर शरीर को आराम मिलता है उसी तरह दिमाग़ को आराम अच्छी नींद से मिलता है! सिर्फ 8 घण्टे सोना ही काफी नहीं बल्कि नींद कैसी आरही है ये भी मैटर करता है, मतलब कुछ लोगो रात भर उलटे सीधे ख्वाब आते रहते हैं जो की नीन्द को बेकार कर देते हैं, इसके लिए आपको एक्सरसाइज़  करनी चाहिए और अच्छी नीन्द लेनी चाहिए!





activities
एक्टिविटीज़

5  ऐक्टिविटीज़ :  आज कल की इस बिज़ी लाइफ और टेक्नोलॉजी के दौर में ज़्यादा तर लोग कंप्यूटर,  डेस्क, काउंटर, ऑफिस और गेम्स वगैरह में इतना वक़्त लगाते हैं की फिज़िकल एक्टिविटीज़ के फायदे भूल ही जाते हैं जबकि इसके फायदे अनगिनत हैं जैसे

  • दिल का दौरा पड़ने के अपने जोखिम को कम करें।
  • अपने वजन का बेहतर प्रबंधन करें।
  • रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है।
  • टाइप 2 मधुमेह और कुछ कैंसर का खतरा कम।
  • रक्तचाप कम होता है।
  • हड्डियों, मांसपेशियों और जोड़ों मजबूत!
  • अस्पताल में भर्ती होने या बैड रैस्ट में जल्द और बेहतर ठीक हो जाना
  • ज़्यादा ताकत, बेहतर मूड के साथ, आराम महसूस करेंंगे
  • बेहतर नींद लें पाएंगे।




health and nature
प्रकृति और सेहत 
6 प्रकृति और सेहत अध्ययनों से पता चलता है कि प्रकृति में होने या प्रकृति के दृश्यों को देखने से भी क्रोध, चिंता और तनाव में कमी आती है। प्रकृति में समय बिताने से रक्तचाप, हृदय गति, मांसपेशियों में तनाव और हार्मोन का उत्पादन कम हो जाता है।बाहर कुछ वक़्त गुज़ारना मज़ेदार है, लेकिन इससे भी मज़ेदार यह है कि यह दिमाग़, जिस्म और रूह के लिए अच्छा है। एक अध्ययन से पता चलता है कि खुली हवा में 20 मिनट बिताने से आपके मस्तिष्क को एक कप जौ की तुलना में ऊर्जा मिलती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि पैड पौधो से निकलने वाले फाइटोनसाइड्स-एयरबोर्न रसायनों में साँस लेने से हमारे रक्त कोशिकाओं के स्तर में वृद्धि होती है, जिससे हमें संक्रमण और बीमारियों से लड़ने में मदद मिलती है।




drinking water
वॉटर इंटैक 

7 वॉटर इंटैक :  हमारे शरीर को हाइड्रेटेड रखना शारीरिक और मानसिक एक्टिविटीज़ के लिए ज़रूरी है। इसके बिना, हमें कई दिमाग़ी परेशानियों से गुज़रना पड़ सकता है, ग़लत फैसले लेंगे, और यहां तक कि आसान से फिसिकल वर्क्स करने के भी लायक नहीं रह जायेंगे!
हमारे शरीर में जब 1% पानी की कमी होती है तब हमें प्यास  लगती है, पसीना निकलने पर और पेशाब करने के बाद हमारे शरीर में पानी की कमी होजाती है अब ऐसे में आप ये तो कर नहीं सकते की दिन भर का पानी एक साथ ही पी जाएँ और अगर जितनी ज़रुरत है उससे कम पियेंगे तो भी प्रॉब्लम होजायेगी, हमारी प्यास निर्भर करती है हमारे शरीर में होने वाली पानी की कमी पर इसलिए ज़रूरी है की ख़याल रखा जाये कितना पानी शरीर से बहार निकला है और कितना शरीर को चाहिए, हमें बैलेंस बनाये रखना आना चाहिए!




balace diet
बैलेंस डाइट 

8  बैलेंस डाइट 
 संतुलित आहार वह है जिससे हमारे शरीर को सही तरीके से काम करने के लिए ज़रूरी  पोषक तत्व मिलते  है। संतुलित आहार खाने से हमें अच्छी सेहत को बनाए रखने और बीमारी के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है। सेहतमंद रहने के लिए इंसान को एक निश्चित मात्रा में कैलोरी और पोषक तत्वों की ज़रुरत होती है। एक संतुलित आहार से हमें वो सभी पोषक तत्व लिमिट मिल जाते है जितना की एक व्यक्ति को आवश्यकता होती है,समय के साथ आहार संबंधी दिशा-निर्देश बदलते रहते हैं, क्योंकि वैज्ञानिक पोषण के बारे में नई जानकारी खोजते हैं। वर्तमान सिफारिशों का सुझाव है कि एक व्यक्ति की प्लेट में मुख्य रूप से सब्जियां और फल, कुछ लीन प्रोटीन, कुछ डेयरी और घुलनशील फाइबर शामिल होना चाहिए।




स्वच्छ भारत मिशन
स्वछता

9  स्वछता   स्वच्छता कोई काम नहीं है जो ज़बरदस्ती की जाये। यह हमारी सेहत के लिए एक अच्छी आदत और स्वस्थ तरीका है। हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए सभी पतरह की क्लीनलीनेस ज़रूरी है चाहे वह व्यक्तिगत स्वच्छता हो, आसपास की स्वच्छता, पर्यावरण स्वच्छता, पालतू पशु स्वच्छता या कार्य स्थान स्वच्छता (जैसे स्कूल, कॉलेज, कार्यालय, आदि)। यह उतना ही आवश्यक है जितना कि हमारे लिए भोजन और पानी। हमारे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने "स्वच्छ भारत" या "स्वच्छ भारत अभियान" नामक एक स्वच्छता अभियान शुरू किया है।
यह ज़रूरी है क्योंकि यह डेंगू, टाइफाइड, हेपेटाइटिस और मच्छर के काटने से होने वाली अन्य बीमारियों, आदि जैसे खतरनाक बीमारियों को रोकता है। पीलिया, हैजा, एस्कारियासिस, लेप्टोस्पायरोसिस, रिंगवर्म, स्केबीज, शिस्टोसोमियासिस, ट्रैकोमा आदि जैसे रोग दूषित भोजन खाने, दूषित पानी पीने और अस्वच्छ स्थिति में रहने के कारण फैल सकते हैं।




maintain healthy weight
मेन्टेन हैल्थी वेट 

10   मेन्टेन हैल्थी वेट 
  स्वस्थ वज़न तक पहुंचना और बनाए रखना हमारी सेहत के लिए बोहत ज़रूरी है और आपको कई बीमारियों और स्थितियों को रोकने और नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। अगर आप ज़्यादा वज़न या मोटापे से ग्रस्त हैं, तो आपको हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, टाइप 2 मधुमेह, पित्ताशय की पथरी, सांस लेने की समस्या और कुछ कैंसर सहित गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं के विकास का अधिक खतरा है। इसीलिए एक स्वस्थ वज़न बनाए रखना इतना महत्वपूर्ण है: यह आपको इन समस्याओं के विकास के लिए आपके रिस्क को कम करने में मदद करता है, आपको अपने बारे में अच्छा महसूस करने में मदद करता है, और आपको जीवन का आनंद लेने के लिए अधिक ऊर्जा देता है।




निष्कर्ष  हैल्थी लाइफ कई चीज़ों को फॉलो करने से मिलती है, जिसमें अच्छा खाना, रोज़ाना कसरत और पोसिटिव थिंकिंग शामिल हैं। अपने शरीर की देखभाल करना और अपनी उपलब्धियों पर गर्व महसूस करना आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों को बेहतर बना सकता है।

zika virus in hindi | जीका वायरस क्या है , लक्षण और उपचार

Arshan Amrohvi

(Read here in English)

Zika Virus Kya hai? 

जीका एक विषाणु है जो दिन में सक्रिय रहता है ! इससे होने वाली बिमारी आमतौर पर ज़ीका बीमारी कहलाती है!
यह सबसे पहले बंदरों में पाया गया था, युगांडा के ज़ीका जंगल में रहने वाले बन्दर इस बीमारी से ग्रसित थे इसलिए इस बीमारी का नाम ज़ीका बीमारी और वायरस Zika Virus कहलाया गया!
यह बीमारी 1947 में पहचान में आयी थी जो की आज अफ्रीका से एशिया तक फैला  है!
1954 में पहली बार बीमारी इंसानो में देखी गयी जो की दीगर बीमारियों के मुकाबले ज़्यादा खतरनाक नहीं थी इसिलए शायद वैज्ञानिकों ने इसके उपचार पर ज़्यादा शोध नहीं किया, हाल फिलहाल में इसका कोई ख़ास इलाज नहीं है और इससे बचाव ही इसका इलाज है!

banner  for  the post "zikra virus"
zikra virus 



प्रभाव 

ज़ीका वायरस इतना खतरनाक होता है की संक्रमित माँ को बुखार आने पर उसके गर्भ में पल रहे बच्चे को भी बुखार आ सकता है तथा बच्चे का अपूर्ण व अविकसित पैदा होना भी संभव है! 
सबसे बड़ी बात यह की आमतौर पर इसमें कोई लक्षण नज़र नहीं आते और आते हैं तो ऐसे की यह कमज़ोर कर देता है अंधापन, दिमाग़ी बीमारी और लिवर से संभंधित बीमारियां होने की सम्भावनाये हो जातीं हैं! 



लक्षण 

ज़ीका बीमारी की पहचान होना मुश्किल है कई बार तो कोई लक्षण होता ही नहीं है लेकिन ज़्यादातर इसमें निम्न लक्षण देखने को मिलते हैं -
  • बुखार - जिसे ज़ीका बुखार भी कहा जाता है!
  • शरीर पर लाल चकत्ते!
  • सर दर्द!
  • लाल आँखे!
  • जोड़ो में दर्द!
  • अंधापन बहरापन 
  • कमज़ोरी और थकान 


कारण 

ज़ीका वायरस एडीज़ प्रकार के मच्छर से फैलता है! यह वही मच्छर है जो डेंगू , चिकिनगुनिया और पीले बुखार को फैलता है! 
यह संक्रमित के खून से और उसके साथ हुए शारारिक सम्भन्ध से फैल सकता है , और संक्रमित माँ से पैदा हुए बच्चे को भी ये रोग होजाना मुमकिन है जिसमे बच्चे का अविकसित या अपूर्ण पैदा होने की संभावना शामिल है!




जांच 

इस रोग की पहचान लिए
  • खून की जांच 
  • पेशाब की जांच
  • लार की जांच 
कराई जाती है जिसमे मौजूद ज़ीका वायरस के RNA का पता चल जाता है!




निवारण व उपचार

इस बीमार का फिलहाल कोई इलाज या टीका वगैरह मौजूद नहीं है , बुखार या दर्द होने पर उसका इलाज किया जाता है और बचाव की सलाह दी जाती है! ज़ीका वायरस से बचने और इलाज के वहीँ उपाए हैं जो डेंगू के लिए किये जाते हैं! इस बीमारी से ज़्यादातर मृत्यु नहीं देखि गयी है लेकिन ये बीमारी उतनी ही खतरनाक है जितनी की डेंगू या चिकिनगुनिया है! मच्छरों से होने वाली बाकी बीमारियों ही की तरह इसकी रोकथाम और इलाज किया जाता है लेकिन इसका कोई टीका या वैक्सीन अभी मौजूद नहीं है इसलिए ऐसे में इससे रोकथाम बहुत ज़रूरी है और इसके बारे में जानकारी होनी चाहिए और सबको चाहिए की जानकारी को दोस्रो को देकर आम किया जाये!




बचाव और रोकथाम

  • मच्छरों से बचें 
  • साफ़ सफाई रखें 
  • जहाँ भी पानी इखट्टा हो साफ़ रखें 
  • हलके रंग के कपडे पहनें 
  • बुखार या दर्द ज़्यादा समय तक रहने पर तुरंत डॉक्टर से मिलें 
  • पानी ज़्यादा पियें 
  •  मच्छर दानी का इस्तेमाल करें 

मुझे  उम्मीद है आपको Zika Virus के बारे में ये जानकारी अच्छी लगी होगी ,ऐसी ही और जानकारियों के लिए से जुड़े रहें!
और इस पोस्ट को व्हाट्सप्प पर शेयर करना न भूलें  ☺️ -



Share on Whatsapp [Phone]

Share on Whatsapp [PC]

A Complete English Grammar Course in Hindi | English sikhe hindi me

Arshan Amrohvi

A Complete English Grammar Course

Hello Doston ☺️


English kaise seekhi jaye?
ye sawaal un logon ke liye hai jo pehle se hi kuch english jaanate hain, aur is post ko padh sakte hain jo ki Hinglish yaini english letters me likha hua hai.


A Complete English Course in Hindi
A Complete English Course in Hindi


Ye English Grammar course jisme English seekhne ke liye saari zaroori cheeze maujood hain aaapki English ko bohat hi aasaan aur acha bana dega. Is course me koi bhi cheez missing nahi bas aapko karna itna hai ki isme likhi hui koi bhi sikhaayi gayi baat ko miss nahi karna hai. Sirf ek ya do cheeze seekhne ya yaad rakh lene se hi aapko English nahi aayegi. Iske liye aapko saare basics par mehnat se waqt lagana hoga aur English ko apni aadat me shumaar karna hoga.
Isliye aappko is course me sikhaayi gayi har baat ko samajh kar yaad rakhna hai aur uska sath Balance bana kar grow karna hai.


English seekhne ke liye doston 3 cheeze seekhni bohat zaroori hoti hain,

Uper likhe topics ko seekhne ke liye inke naamo par click kare aur step by step seekhen, means pehle Parts of Speech, then Sentences aur uske baad Tenses ko seekhen.
Jab aap uper diye gaye teeno topics ko ache se samajhkar, practice karlen to uske baad neeche diye gaye instructions aur tips ko follow karke apni English ko aur behtar bana payenge.


English seekhne ke liye doston English ka maahool zaroori hota hai lekin agar aapko sahi direction pata ho to aap aasaani se apna maahol is internet ki duniya me khud bana sakte hain.
English seekhne ke liye aapko Iske basics ko padhna samajhna hoga. Sirf ek ya do cheeze seekhne ya yaad rakh lene se hi aapko English nahi aayegi. Iske liye aapko saare basics par mehnat se waqt lagana hoga aur English ko apni aadat me shumaar karna hoga. Lekin issey pehle aapko Engish ke basics rules ko samajhna hoga jo neeche samjhaaye gaye hain.


4 cheezo par practice ki zaroorat hoti hai doston - Sunna, Bolna, Padhna, Likhna.
Inme se sirf ek ya do cheeze aapki English ko acha nahi banayengi, balki aapko in chaaron par mehnat karke unka balance rakhna hoga , jese ki aapko achchi tarah se likhne se pahle achchi tarah se padhna aana chahiye. Bolne se pehle aapko sunna aana chahiye. is tarah aap jaldi hi English me aage badh paayenge.

Input <<<
Sunna (Listening)
Padhna (Reading)

Output >>>
Bolna (Speaking)
Likhna (Writing)

is tarah aapko apne Input aur Output par step by step mehnat karni hogi.

Tips:
  1. English Alphabets Likhne aur boolne seekhne.
  2. Baarakhadi ki practice karen.
  3. Alphabets se Words Banane seekhen.
  4. Parts of Speech ko samjhen aur yaad karen.
  5. Sentences ko samjhen aur iske rules yaad karen.
  6. Parts of Speech aur Sentences par achi practice karen.
  7. Tenses aur iske rules ko samjhen aur practice karen.
  8. Bachcho ki books se stories padhen.
  9. Sheeshe ke saamne aur apne friends ke sath English bolne ki koshish karen.
  10. News papers, English TV programs dekhna aur sunna shuru karen.

To ye tha doston Aasaan aur mukammal English Course.
Isi tarah ki aur jaankaari paate rehne ke liye Email se hame Follow aur Subscribe karen jiska option aapko isi page me top left side me mil jayega jisse aapko hamare har naye post ki khabar milte rahegi,

Isey WhatsApp Share karna bilkul na bhoolen ☺️
Share on Whatsapp [Phone]

Share on Whatsapp [PC]

Tenses in hindi | Definition,Formulas,Chart,Examples,Rules | Past, Present, Future in hindi

Arshan Amrohvi

Hello 😊  
English seekhne ke liye doston 3 cheeze seekhni bohat zaroori hoti hain,
  1. Parts of Speech
  2. Sentences
  3. Tenses
jisme se ye teesra post hai, agar aapko Tenses samajhne hain to issey pehle aapko Parts of Speech aur Sentences ko samajhna zaroori hai.
Aaiye is post ko jaari rakh kar jaante hain Tenses -




Tenses in hindi
Tenses in hindi


Introduction to Tenses-

English Grammar me Tenses ka matlab Time se hai, aise factors jo ye batate hain ki kahi gayi baat Past, Present ya Future, kis time se taalluq rakhti hai ya relate karti hai.
Time 3 tarah ka hota hai isliye hamari baate bhi in teeno waqt ke andar hi kee jaati hain

1.Past- jisme beeti hui baate kahin jaati hain

2.Present-jisme filjaal hi ki baat kee jaati hai

3.Future- jisme aane wale waqt ki baat kee jati hai

matlab bina waqt me dhaale to koi baat ki hi nahi ja sakti hai isliye ek insaan teen tarah hi ki baat kar sakta hai ya to wo 1. Past ki baat karega , ya 2.present ki baat karega, ya 3. Future ki baat hi karega. iske alawa aur koi baat nahi kar sakta hai.

In teeno me se har ek time me hum simply sirf ek tarah se hi baat ko nahi kehte hain, kayi tarah se kehte hain, isliye aasaani ke liye Past, Present aur Future ko 4-4 catagories me divid karke total 12 tarah ke Tense banaye gaye hain jinke bare me aapko neeche Formulas aur Examples ki madad se samjhaya gaya hai.



Tense Chart
Tense Chart



Definition of Tenses with Example -

1.Past Simple Tenses :

Guzre waqt ki kisi bhi baat ko kehne ke liye Past Simple Tense ka use kiya jata hai, ye beete waqt me hi shuru aur khatm ho jata hai.
is sentence me verb ki "past simple" form ya helping verb "was/were" me se sirf ek cheez hi use hoti hai.
("Was" sirf First & Third singular persons ke sath hi use kee jati hai jese I, He, She, It,!
aur "Were" saare Plurals ke sath use hoti hai jese We, You, They!)

Example: I cooked dinner. (maine raat ka khaana pakaaya.)
               I was a member of that team. ( main us team ka member tha.) 





2. Past Continuous Tense :


In Tenses me continuity hoti hai matlab Past me hua koi kaam, past me chal raha hota hai ya jaari rehta hai.
Past Continuous Tenses ke zariye se Past me chal rahe kisi kaam me paida hui rukaawat ko bataya jaat hai.
Isme me verb ki "Present participle ya ing" form ke sath helping verb "was/were" ka use hota hai.

Example : I was cooking dinner when the door bell rang. (Jab darwaaze ki ghanti baji tab main khaana paka raha tha)





3. Past Perfect Tenses : 

Past Perfect Tense ka use kiya jata jab past me kisi kaam ke shuru hone se pehle hi koi kaam poora ho jaye.
is tense me verb ki "past participle" form ke sath helping verb "Had" ka use kiya jata hai.

Example:  I had cooked dinner, before the movie started. ( Maine movie shuru hone se pahle, raat ka khaana paka liya tha.)





4. Past Perfect Continuous Tenses :


Is Tense me koi kaam past me kisi khaas waqt se shuru hokar kisi past me hi kisi waqt tak jaari rehta hai aur phir past me hi khatm ho jata hai.
Isme verb ki "present parciple" ya "ing" form ke sath helping verb "had been" ka istemaal hota hai.
Kisi khaas lamhe ya pal (point of time) ke liye "Since" aur waqt ke kisi khaas hisse (period of time) ke liye "for" ka istemaal bhi hota hai.

Example:  I  had been cooking since 10am. ( Main subah 10 baje se khaana paka raha tha.)
                I had been cooking for 2 weeks. ( Main 2 hafte se khaana paka raha tha.)





5. Present Simple Tenses :


Present Tense ke zariye ham aamtaur par hone wali baato ya kaamo ko batate hain jo dobara bhi hoti aur hoti rehti hain, jese kisi ki baat se iqraar, kisi ko apne ya kisi cheez ke bare me simply batana.
Inme bhi helping verb "is/am/are" aur verb ki "orinal form" me se sirf ek hi use hoti hai.

Example: I cook dinner. | Does She cook dinner? | She cooks dinner.| You do not cook dinner.





6. Present Continuous Tenses :


Present ya fil-haal ke waqt me chal rahe ya jaari kaam ko batane ke liye Present Continuous Tense ka istemal hota hai.
Isme Helping verb "is/am/are" ke sath verb ki "present participle" ya "ing" form use kee jati hai

Example: I am cooking dinner. | You are playing. | He is singing.





7. Present Perfect Tenses:


Ye Tenses, ab se pehle kisi kaam ka kayi bar hojana batane ke liye istemaal kiye jate hain jahan wo time important nahi hai jis waqt kaam hua ho. 
Inme verb ki "past participle" form ke sath helping verb "Has/have" istemaal hota hai, 
Third Person Singular jese He,She,It,This,That, ke sath "Has" aur 1rst,2nd Singluar,1rst,2nd,3rd Plural Persons jese I,We,You,They,Those ke sath "Have" ka istemaal hota hai.

Example: I have cooked dinner, ten times already. (Main pehle hi 10 bar raat ka khana bana chuka hoon.)
               I have bought a car today. (Maine aaj ek car khareedi hai.)





8. Present Perfect Continuous:


Jab past me koi kaam shuru hua ho aur present ke us lamhe ya us moment tak chalta raha ho jis waqt ye baat kahi ja rahi ho means at the time of speaking, to aise sentences Present Perfect Continuous Tense hi kehlaate hai.
Isme Verb ki "Present participle" ya "ing" form ke sath helping verb "Have been or Has been" ka istemaal hota hai.
Uper 7th number ke tense hi ki tarah, Third Person Singular jese He,She,It,This,That, ke sath "Has been" aur 1rst,2nd Singluar,1rst,2nd,3rd Plural Persons jese I,We,You,They,Those ke sath "Have been" ka istemaal hota hai.

Example: I have been cooking until you arrived. (Tumhare aane tak main raat ka khaana pakata raha.)
               It has been raining since morning. (Subah se barish padh rahi hai.)

               



9. Future Simple Tenses :


Future me hone wale kisi kaam, promise, prediction or action ko batane ke liye ham Future Simple Tense ka istemaal karte hain, isme Verb ki original form ke sath helping verb "Will or Shall" ka istemaal hota hai, "We" ke sath "Shall" aur baaqi sabhi Noun or Pronoun ke sath "Will" ko use kiya jata hai, zyadatar "Will" ko kisi bhi Noun ya Pronoun ke sath tab istemaal kiya jata hai jab kaam anjaam dene ka irada pakka hota hai aur "Shall" ko tab jab irada pakka nahi hota hai.

Example: I will see you. ( Main tumhe dekh loong.)
                I shall go to the market. ( Main market jaunga.)





10. Future Continuous Tense :


Hum Future Continuous Tenses ka istemaal karte hain jab ham kisi aise kaam ke bare me batate hain jo Future me shuru hokar kisi aur kaam ke hone tak jaari ya continue rehne wala hota hai.
Inme Verb ki "present particple" ya " ing" form ke sath helping verb "Will be or Shall be" ka istemaal kiya jata hai.

Example: I will be cooking dinner, when you arrive home. ( Tumhare ghar pahunchne tak main raat ka khaana paka raha hoonga.)





11. Future Perfect:


Future Perfect Tenses aise baato ko batane ke liye istemaal kiye jaate hain jisme koi kaam future me shuru hokar future me hi kisi time me khatm hota hai ya ho jana hota hai. 
Isme Verb ki "past form" ke sath helping verb "Will have / Shall have" istemaal hota hai.

Example: I will have cooked dinner before 7pm. ( Mujhe sham 7 baje se pehle raat ka khaana paka lena hoga.)
               





12. Future Perfect Continuous Tenses:


Is Tense ka istemaal Future me kisi wajah ko batane ke liye kiya jata hai, ya Future me kisi aise kaam ko batane ke liye jo future me shuru hokar bina complete huye jaari ya continue rehta hai.
Isme Verb ki "present participle ya ing" form ke sath helping verb "Will have been / Shall have been" ka istemaal kiya jata hai aur sath hi isme 4th & 8th tenses ki tarah "Since & For" ka istemaal bhi kiya jata hai.

Example: I will be hungry, because i will have been cooking dinner all afternoon. (Main saari dopehar raat ka khaana pakane ki wajah se bhooka rahunga.)
I shall have been saving a rupee a day since 1rst july.( Main 1rst july se har din 1 rupee save kar raha hoonga.)
I shall have been saving a rupee a day for 2 years. (Main 2 saal tak har din 1 rupee save kar raha hoonga.)


                


Formulas of the 12 Tenses

Ye 12 formulas aapko practice karne me helpkarenge jissey aap jaldi hi English seekh sakenge.





to doston ye tha Post Tenses in hindi , ummeed hai aapko samajh aur pasand aaya hoga, aur koi sawaal ho to aap mujhse comment box me ya Instagram par pooch sakte hain.

dosto  is post ko WhatsaApp par Share karna na bhoolna ☺️

Share on Whatsapp [Phone]

Share on Whatsapp [PC]

Sentence in hindi, english sikhe hindi me | Hindi Khazana

Arshan Amrohvi

Hello 😊  
English seekhne ke liye doston 3 cheeze seekhni bohat zaroori hoti hain,
  1. Parts of Speech
  2. Sentences
  3. Tenses
jisme se ye doosra post hai, agar aapko Sentence samajhne hain to issey pehle aapko Parts of Speech ko samajhna zaroori hai, to pehle Parts of Speech ko samjhen aur phir Sentences ko aur agar aap Parts of Speech jaante hain to aaiye is post ko jaari rakh kar jaante hain Sentences -


Doston Sentences seekhe bina English to kya balki koi bhi zubaan koi bhi bhaasha seekhna ya bolna mumkin nahi, hindi me sentence banana to aap maahool ki wajah se khud ba khud seekh gaye lekin English ke liye aapko Sentences ka tareeka rules wagarah sab jaanna bohat zaroori hai.
To aiye jaante hain-
Banner
Sentences in hindi


Sentence in Hindi

Baat-cheet karne ke liye hum lafzon ko ek khaas dhang (in a special manner or with a rule or formula) me mila kar apni baat ko kisi se kehte hain!
lafzon ko jab is tarah mila kar jab koi baat kahi jaati hai to us ek baat ko English mein Sentence kehte hain!

Sentence ke prakaar jaanne se pehle uske hisson ya bhaagon ko jaan lete hain! 
to aaiye dekhen ki Sentence banta kaise hai-



3 Parts of Sentence-


1. Subject -

Subject Sentence ke us bhaag ko kehte hain jiske baare me baat hoti hai, jaise school me subjects hote hain Hindi, English, Math vagarah, agar Hindi ke period me baithe huye hain to baat sirf Hindi hi ki hoti hai kyonki subject hindi hai, isi tarah Sentences me bhi tareeka hai ki jiske bare me baat ho rahi ho wohi Subject kehlaata hai.
Subject Insaan, Jaanvar, Jagah ya koi bhi cheez ho sakti hai matlab Subject koi Noun bhi ho sakta hai aur Pronoun bhi aur baaki ke hisson ko Predicate kehte hain, jaise-

      Subject     Predicate
           Amy     is a girl. 
               This book    is very famous. 
                  He      is not a girl.



2. Verb - 

Ye Verb bhi wohi hai jo humne pichle post Parts of Speech me padhi thi, verb un lafzon ko kehte hain jinse kisi kaam ka pata chalta hai jaise run se bhaagane ka, eat se khaane ka, sleep se sone ka pata chalata hai!
Inme Action hota hi isliye aise words ko Action Words bhi kaha jata hai.



3. Object -

Subject jab koi act karta hai to vo kisi na kisi cheez par to karega na? ab jaise "i play cricket" me "i" ho gaya subject kyonki "i" hi to act kar raha hai, "Play" ho gaya act kyonki ye ek action word hai, to object kya hua? object hua "cricket" kyonki ye wo word hai jis par actor dwaara action kiya ja raha hai means isi par to khel khela gaya hena 😄 !




Points to be Remember-

*Verb aur Object, Predicate ke 2 hisse hain,
  aur subject aur predicate, Sentence ke 2 hisse hain!

*Jis tarah subject koi bhi noun ya pronoun ho sakta hai usi tarah object bhi koi bhi noun ya pronoun ho sakta hai, bas farq itna hai ki Subject Sentence ka pehla hissa hai jo shuru me aata hai aur Object Sentence ka aakhiri hissa hai jo aakhir mein aata hai,


*Subject vo hai jiske baare me baat ho rahi hoti hai ya jo act kar raha hota hai aur object vo hai jis par act ho raha hota hai!


*Sentence ke in 3 hisson ko istemaal karne ka ek tareeka ya usool keh sakate hain jiske bina Sentence sahi nahi maana ja sakta hai. aur wo formula ye hai -






The Formula of Sentence -

Subject + Verb / Helping Verb + Object


Matlab usool ke mutaabik, agar Sentence me verb hai to verb, subject ke baad hi istemaal hogi,
haan agar Sentence negative hai to helping verb ya model verb, subject se pehle istemaal hogi, jaise "May i come in?" me "May" jo ki ek model verb hai, subject jo ki "i" hai, se pehle istemaal hui hai! 
Isi tarah object bhi verb ya helping verb ke baad hi istemaal hota hai pehle nahi!

Chalie ek aur aasaan example se subject, verb aur object ko samajhate hain - 
"I love you."
 is Sentence me "i" subject hai kyonki vo "i" hi hai jiske baare me Sentence hai aur "i" hi act kar raha hai!

isee tarah act ya verb ho gayi  "Love"
aur jis par act kiya ja raha hai vo kaun hai?
vo hai "You", aur jis par act kiya jaata hai vo hi to object kehlaata hai to object hua "You"

aaiye ab Sentence ke prakaar jaan lete hain!




3 Types of Sentence

Sentence 3 tarah ke hote hain -

1. Affirmative Sentences -

Aise Sentence jinke zariye koi baat sirf kahi ya bataayi jaati hai aur simple hote hain, jinke aakhir me full stop laga hua hota hai wo Simple Sentences kehlaate hain.
In sentences me 3rd person ke sath Verb ki 5th form ka istemaal kiya jata hai jise Parts of Speech post ke Verb wale paragraph me samjhaya gaya hai. 
Examples :
This is Arshan Amrohvi.
He writes blogs.
I like to read his blogs.



2. Negative Sentences -

 Inme Not ka istemaal hota hai, jis bhi Sentence me Not ho vo Negative Sentence hoga!
Agar sentence me verb hai to 1rst aur 2nd person ke sath helping verb ki jagah Do Not aur 3rd person ke sath Does Not use hota hai, aur agar sentence me verb nahi hai to helping verb ke baad sirf  Not use hota hai.
Jaise :
Ram is not a girl.
He does not play cricket.
I do not play cricket. Etc.


3. Interrogative Sentences -

Jis Sentence ke zariye kuch poocha jaye vo Sentences In-terro-ga-tive Sentence kehlaate hain. In sentences me helping verb subject se pehle use kee jati hain.
Inke aakhir mein ? hota hai!
Jaise : 
Is ram a good boy?
Do you play cricket?
Does he play cricket? Etc.


to dosto  ye tha post Sentences in Hindi

isey WhatsApp par share karna na bhoolen doston 😊
Share on Whatsapp [Phone]

Share on Whatsapp [PC]

Parts of Speech in Hindi, Learning English in Hindi

Arshan Amrohvi
Hello 😊  
English seekhne ke liye doston 3 cheeze seekhni bohat zaroori hoti hain,
  1. Parts of Speech
  2. Sentences
  3. Tenses
jisme se ye pehla post hi hai, is post ko padhne ke baad uper diye gaye do post bhi parh lenge to ye teeno cheeze aapki English ko behtareen kar dengi!

Parts of Speech
Parts of Speech


Friends, English seekhne ke liye Parts of Speech ko samajhna bohat bohat zaroori hai kyonki lafzo se Sentences bante hain aur Sentences ke istemaal se hi to ham aur aap English me baat karte hain, ab agar lafzo ke bare me kisi ko pata nahi hoga to usse sentences sahi dhang se nahi ban payenge aur English reh jaayegi pheeki. to aaiye sabse pehle jaante hain kya hote hain Parts of Speech-



Parts of Speech

Jis tarah insaan ki catogories hoti hain jese koi Police, koi Teacher to koi Doctor usi tarah English me Words ko 8 catogories me baanta gaya hai. 
Words ki yahi categories Parts of Speech kehlaati hain!


Parts of Speech 8 hote hain-

1. Noun :

har wo word ya lafz Noun kehlaata hai jo kisi bhi cheez , jagah, insaan ya jaanwar ka Naam hota hai!
Jaise: Akbar, Delhi, Kursi, Ramu, Chocholate, Koi bhi naam!

Doston Noun aur Pronoun ke baare me 2 baaten samajhni bohat zaroori hain jisme pehla concept hai Persons and doosra concept hai Singular-Plural. ye dono Concept aapko aage aane wale topics Sentences aur Tenses ko samajhne me help karenge, bina inko samjhe aap English nahi seekh payenge. to aaiye samajhte hain -

(a). Person's Concept :

 hum aur aap jo ki insaan hain English me Person kehlaate hain jo ki 3 tarah ke hain-
1rst person wo kehlaata hai jo baat keh raha hota hai.
2nd person wo jo baat sun raha hota hai.
3rd person wo hota hai jiske baare me baat ho rahi hoti hai
Example: Raju apne dost Aman se keh raha hai-
                "I love my mother"
                isme Raju 1rst person hua kyonki wo baat keh raha hai
                Aman 2nd person hua kyonki wo baat sun raha hai.
                 Mother isme 3rd person huin jinke bare me baat ho rahi hai.

(b). Singular-Plural Concept-

Singular ka matlab to naam se hi samajh aaraha hai Single hai, aur Plural ka matlab ek se zyada.
Aage aap Verbs aur Helping Verbs seekhenge, Sentence banate waqt jab Subject ke sath Verb use kee jayegi to Verb ke sath Helping Verb bhi use kee jayegi aur Kis Subject ke sath konsi Helping Verb use karenge,  Ye Subject ke Singular ya Plural hone par depend karega.
Singular-Plural ko yahan sirf itna hi samajhte hain, jese jese aap aage padhte jayenge, in sab baato ko aur achi tarah samajhte jayenge.
(phir bhi aap kuch poochna chahen to mujhe neeche comment box me ya Instagram par message karke pooch sakte hain.)


2. Pronoun :

Har wo lafz jo Noun ki jagah par istemaal kiya ja sake wo lafz Pronoun kehlaate hain!
Jaise : Ram is a boy.
           He    is a boy.
kyonki Ram ek naam hai jo Noun hua aur Ram ki jagah par jab He ka istemaal kiya gaya to sentence na to badla aur na baat par koi farq pada!
Ab kyonki He, Noun ki jagah par istemaal hua isliye He ek Pronoun hai,, He ki tarah You, I, We wagahra bhi Pronoun hi kehlaate hain!



3. Adjective :

Un lafzo ko Adjective kehte hain jo Noun aur Pronoun ke bare me batayen,
jaise: "Ram is a Good boy" me Good ek aisa word hai jo Boy ke bare me bata raha hai aur kyonki boy ek Noun hi hai isliye  Good ek Adjective hua!
Examples:           (Adjective)   (Noun)
                                     Good   Boy
                                      High   School
                                     Small  Box
                                        Tall  Girl



4. Verb :

Har wo lafz हर वो लफ्ज़ Verb kehlaate hain jinse kisi kaam ka pata chalta hai, matlab jahan energy kharch hui ho, aise lafzo se kisi action ka pata chalta hai isliye inhe  Action Words bhi kaha jaata hai!
Jaise : Learn, Study, Cry, Run, Write, Speak, Sleep, Chat, Sit, Cut, Eat, Drink वगैरह!


Doston Noun hi ki tarah Verbs me bhi 2 bohat zaroorat Concepts hain jinhe samajhna bohat zaroori hai.

(a). Forms of Verbs -

Verbs ki 5 forms hoti hain jinka istemaal aap Tenses me karenge isliye isko yahin samajh lena bohat zaroori hai -

1rst Simple form hoti hai jo original word hi hota hai jaise "I cook dinner". Verb ki is form ke sath koi helping verb use nahi hoti hai.

2nd Past Simple hoti hai, ye zyadatar original word ke aakhir me "d" ya "ed" laga kar banti hai jisko ham past form bhi kehte hain kyonki iska use beeti hui baat batane me kiya jata hai.. jaise "I cooked dinner."

3rd Past Participle hoti hai, ye bhi original form me "d" ya "ed" laga kar banti hai lekin iske sath helping verb has/have/had use hota hai, jiska istemaal past me jo kuch ho chuka hota hai usey batane ke liye kiya jata hai. jaise "I have cooked  dinner."

4th Present Participle hoti, ye original word ke aakhir me "ing" lagane se banti hai jiska istemaal kisi kaam ke chal rahe ya kisi jaari kaam ko batane ke liye kiya jata hai, iske sath hamesha ek helping verb use kee jaati hai jo verb "to be" ki ek qism hoti hai,  jaise " I am cooking dinner."

5th 3rd person singular present simple matlab verb ki wo form jo kisi single 3rd person ke present me kiye jane wale kaam ko batane me istemaal kee jaati hai, iske sath koi helping verb istemaal nahi hoti hai, ye original word ke aakhir me "s" ya "es" laga kar banti hai jaise "He cookes dinner".


(b). Helping Verbs -

Helping Verbs wo hoti hain jo Sentence ko banane me Verb ki help karti hain ya Verb ke sath use hoti hain., inhe aasani se samajhne ke liye ham is tarah samajh sakte hain-

1. Verbs 'TO BE' -          Is, are, am, was, were
I ke sath "am" | You,We,They,Those ke sath "are" | He,She,It, This,That ke sath "is" use hota hai. aur was/were is/am/are ki past ya 2nd forms hain jo Past sentences me kis tarah use kee jaati hain aapko Tenses wale post me bataya jayega.


2. Verbs 'TO HAVE' -      Has, have, had
Jab hame ya kisi aur ko kuch karna hota hai ya ye batana hota hai ki hamare ya kisi ke pas kuch hai, tab Has/Have ka use hota hai aur Had, Has/Have ki past ya second form hai, inhe use karna Tenses wale post me sikhaya jayega.


3. Verbs 'TO DO' -          Do, does, did
Present Tenses me iska use hota hai jo aapko Tenses wale post me sikhaya jayega.

 iske alawa bhi bohat sari Helping Verbs aap aage seekhenge jese-
 can,may,must,might,was,were,will,shall,would,should,could, etc


                             

5. Adverb :

Har us lafz ko Adverb kehte hain jo verb,adjective, another adverb ya kisi bhi word or phrase ke bare me kuch bataye, change, modify ya usey qualify karta ho!
Jaise : "Ram walks slow" me Slow aisa word hai jisse ram ki Walking ke bare me pata chal raha hai! so Slow yahan Adverb hua!
Examples :

  • She always arrives early. (Wo subah jaldi aati hai)

          kab aati hai? Jaldi! to yahan Adverb hai Early.
  •  He drives carefully. (wo dhyaan se drive karta hai)

            Kese karta hai? Dhyaan se! yahan Adverb Carefully hai.
    
  •  They go everywhere together. (Wo har jagah jaate hain)
           Kahan jaate hain? Har jagah! yahan Adverb Everywhere hai.
       


6. Preposition :

Wo lafz Preposition kehlaate hain jisse jagah ya position ka pata chalta hai!
Jaise: on, in, out, up, down, upon, under,into wagarah!
The Book is on the table.
I am in the class. etc.



7. Conjunction :

Wo words Conjunction kehlaate hain jo 2 words ya 2 sentences ko aapas me connect karke 1 bana dete hain!
Jaise : "White and Black" me  and ek Conjunction hai,
aur "I am from amroha but live in Mumbai." me but ek Conjunction hai!
More examples: And, As, Because, But, For, Just as, Or, Neither, Nor, Not only, So, Whether, Yet, etc



8. Interjection :

Wo words Interjection kehlaate hain jinse man ke bhaav, bhaavna, ya feelings ka pata chalta hai!
Jiase : Wah, Wow, Oh, yuppie, hurray, wagarah!

  • Ahem - Bolne se pehle awaaz ko theek karne ke liye muh se nikla sound.
  • Aah - Madad ke liye.
  • Eww - jab kuch bura ya ganda lagta hai.
  • Hmm - Ghabrahat me ya kuch sunayi na dene par dobara poochna.
  • Oops - Jab galati ho jaye acahanak se.
  • Whoa - Hairat me ho jane par.
  • Yahoo - Khushi ke moke par.
  • Yeah - Agree hone par.



to dosto ye tha aaj ka post Parts of Speech.

isey Whatsapp par share karna na bhoole doston 😊
Share on Whatsapp [Phone]

Share on Whatsapp [PC]